Trending

राजस्थान वालों को मिली बड़ी सौगात..! इन जिलों में बिछेगी 8 नई रेल लाइनें, देखें जिलों के नाम   

Raj Samand District : उत्तर पश्चिम रेलवे को पिछले दिनों अंतरिम बजट में 971428 करोड़ रुपये दिए गए हैं। उत्तर पश्चिम रेलवे को पिछले दिनों ने अंतरिम बजट में 971428 करोड़ रुपये की सौगात मिली.

राजस्थान के विकास के लिए PM सरकार दिल खोलकर बजट दिया है. आपको बता दे की 9714.28 करोड़ रुपये का बजट उत्तर पश्चिम रेलवे को दिया गया है। राजस्थान में आठ नई रेल लाइनें बनाई जाएंगी और सात रेल लाइनों को दोहराया जाएगा। 152KM मारवाड़-मावली रेलवे खंड का गेज बदलने के लिए 75 करोड़ रुपये दिए गए हैं। कई रेलवे खंडों को विद्युतीकरण करने के लिए 990 करोड़ रुपये की व्यवस्था की गई है।

9714.28 करोड़ रुपये का बजट उत्तर पश्चिम रेलवे को रेल परियोजनाओं, यात्री सुविधाओं और इंफ्रास्ट्रक्चर को सुधारने के लिए दिया गया है। पिछले वर्ष 8636.85 करोड़ रुपये से यह 12.47 करोड़ रुपये अधिक है। बजट में नई लाइनों के लिए 1438 करोड़ रुपये, गेज परिवर्तन के लिए 129 करोड़ रुपये और डबलिंग के लिए 925 करोड़ रुपये शामिल हैं। राजस्थान में आठ नई रेल लाइनें बनाई जाएंगी और सात रेल लाइनों को दोहराया जाएगा। 152 किमी मारवाड़-मावली रेलवे खंड का गेज बदलने के लिए 75 करोड़ रुपये दिए गए हैं। कई रेलवे खंडों को विद्युतीकरण करने के लिए 990 करोड़ रुपये की व्यवस्था की गई है।

उत्तर पश्चिम रेलवे ने रेलवे का आधारभूट ढांचा मजबूत करने, रेलवे की सुरक्षा करने और यात्री सुविधाओं को प्रदान करने पर खास ध्यान दिया है। वर्ष 2024–25 के बजट में उत्तर पश्चिम रेलवे 4 के लिए नई रेल लाइनों, डबलिंग और यात्री सुविधाओं, ट्रैक की सुरक्षा, सड़क सुरक्षा के लिए रोड ओवर ब्रिज और रोड अंडर ब्रिज का निर्माण सहित कई कार्यों के लिए बजट रखा गया है।

इस वर्ष में इंफ्रास्ट्रक्चर के लिए 1625 करोड़ रुपये से अधिक की धनराशि दी गई है। इंफ्रास्ट्रक्चर डेवलपमेंट में आरओबी और आरयूबी, सिग्नल, दूरसंचार, ब्रिज निर्माण और यात्री सुविधाओं का विस्तार शामिल हैं. रेलवे ट्रैक का नवीनीकरण भी शामिल है। 

इस वर्ष बजट में ट्रैक की मरम्मत के लिए सबसे अधिक 700 करोड़ रुपये खर्च किए गए हैं। इसके अलावा, आरओबी और आरयूबी के लिए 558 करोड़ रुपये, 261 करोड़ रुपये सिग्नल और दूरसंचार संबंधी कार्यों के लिए, 52 करोड़ रुपये पुल निर्माण के लिए और 28 करोड़ रुपये क्रॉसिंग लेवल फाटकों पर इंफ्रास्ट्रक्चर का विकास। इतना ही नहीं, इस वर्ष यात्री सुविधाओं पर 750 करोड़ रुपये खर्च किए जाएंगे। साथ ही, यातायात सुविधाओं, रोलिंग स्टॉक और कर्मचारी कल्याण के लिए 31 करोड़ रुपये का बजट निर्धारित किया गया है।

ये 8 नई रेल लाइनें बनाई जाएंगी, जानें जिलों के नाम 

दौसा – गंगापुरसिटी:

लंबाई: 92.67 किमी
बजट: 300 करोड़ रुपये

रतलाम-डूंगरपुर:

लंबाई: 176.47 किमी
बजट: 150 करोड़ रुपये

अजमेर कोटा:

लंबाई: 145 किमी
बजट: 50 करोड़ रुपये

पुष्कर – मेड़ता:

लंबाई: 59 किमी
बजट: 50 करोड़ रुपये

अजमेर-नसीराबाद:

लंबाई: 145 किमी
बजट: 100 करोड़ रुपये

तारंगाहिल-आबूरोड:

लंबाई: 89.39 किमी
बजट: 300 करोड़ रुपये

नीमच – बड़ी सादड़ी:

लंबाई: 48.30 किमी
बजट: 100 करोड़ रुपये

गुढ़ा ठठाना-मीठडी:

लंबाई: 25 किमी
बजट: 120 करोड़ रुपये

इन 7 लाइनों का होगा दोहरीकरण

फुलेरा – डेगाना:

लंबाई: 108.75 किमी
बजट: 240 करोड़ रुपये

डेगाना-राई का बाग:

लंबाई: 145 किमी
बजट: 22 करोड़ रुपये

जयपुर सवाई माधोपुर:

लंबाई: 131.27 किमी
बजट: 100 करोड़ रुपये

अजमेर-चित्तौड़गढ़:

लंबाई: 186 किमी
बजट: 105 करोड़ रुपये
सवाई माधोपुर बायपास:

लंबाई: 6.98 किमी
बजट: 160 करोड़ रुपये

चूरू रतनगढ़:

लंबाई: 42.81 किमी
बजट: 200 करोड़ रुपये
मनहेरू बवानी खेड़ा:

लंबाई: 31.50 किमी
बजट: 40 करोड़ रुपये

काठूवास-नारनौल:

लंबाई: 24.12 किमी
बजट: 50 करोड़ रुपये

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button